गोधन न्याय योजना छत्तीसगढ़

गोधन न्याय योजना छत्तीसगढ़ | godhan nyay yojna chhattisgarh 2020 full information

गोधन न्याय योजना छत्तीसगढ़ :छत्तीसगढ़ में चलायी जा रही सुराजी गांव योजना के अंतर्गत नरवा (नदी),गरूवा (गाय), घुरूवा (अपशिष्ट संग्रहण करने की जगह) व बाड़ी का संरक्षण एवं संवर्धन किया जा रहा है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने हरेली त्यौहार के दिन गोधन न्याय योजना को प्रारम्भ किया। इस योजना के ज़रिये छत्तीसगढ़ सरकार पशुपालकों व गायो के लिए कार्य कर रही है तो चलिए आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से गोधन न्याय योजना के बारे में बताते है।

क्या है गोधन न्याय योजना :-

इस योजना के तहत प्रदेश के गांवो में गौठान नए तरीके से बनाया जा रहा है तथा
गायों के चारे के लिए बीजों का वितरण किया जा रहा है। इन्ही गौठानों में गोबर 2
रुपये प्रति किलो की दर से खरीदी का कार्य किया जाएगा। वर्तमान में राज्य
सरकार द्वारा गोधन न्याय योजना के नाम से मोबाइल एप्लीकेशन लॉंच किया गया
है इसके जरिये अब पशुपालक अपने मोबाइल से ही इस योजना से जुडी सभी
जानकारियां व अपडेट पा सकते है।

गोधन न्याय योजना के लाभ :-

  1. पशुओं के सड़कों में विचरण एवं खुली चराई पर रोक।
  2. गाय पालने वालों की कमाई में बढोत्तरी।
  3. भूमि की उपजाऊ क्षमता में वृद्धि।
  4. इस योजना से जैविक खाद के उपयोग को बढ़ावा मिलेगा तथा रासायनिक उर्वरक का
    उपयोग कम होगा जिससे पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलेगा।
  5. स्थानीय समूहों को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी।
  6. रोजगार के नए अवसर प्राप्त होंगे।
  7. आर्गेनिक फलों व सब्जियों की उपलब्धता बढ़ेगी।
  8. स्थानीय स्तर पर आर्गेनिक खाद मिलेगी।
  9. पशुपालन व्यवसाय को उचित सम्मान मिलेगा।

Leave a Comment

error: Content is protected !!