माँ बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़

maa bamleshwari temple dongargarh | माँ बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ | माँ बमलाई मंदिर डोंगरगढ़ राजनांदगांव

छत्तीसगढ़ के राजनाँदगाँव जिले में स्थित है डोंगरगढ़ तथा माँ बम्लेश्वरी मंदिर के लिए प्रसिद्ध है ।

यह मंदिर राजनांदगांव जिले से लगभग 35 किमी पश्चिम में स्थित है व दुर्ग से 67 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है ।

राजसी पहाड़ों और तालाबों के साथ, डोंगरगढ़ शब्द से लिया गया है: डोंगरगढ़ का मतलब ‘पहाड़’ और गढ़ अर्थ ‘किला’ है।

1,600 फीट ऊंची पहाड़ी की चोटी पर स्थित माँ बमलेश्वरी देवी मंदिर, एक प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल है।

इस मंदिर के साथ कई कहानियां व मान्यताएं जुडी हुई है।

वैसे तो साल भर यहां भक्तों का तांता लगा रहता है, लेकिन नवरात्रि के दौरान इन मंदिरों में भक्तों की संख्या काफी बढ़ जाती है।

dongargarh
bamleshwari mandir

बम्लेश्वरी मंदिर का इतिहास :-

लगभग 2200 साल पहले, डोंगरगढ़ एक काफी पुनर्निर्मित क्षेत्र था जिसका नाम कामवती था

जो महाराजा वीरसेन द्वारा शासित था। जब उनकी रानी ने एक बेटे को जन्म दिया तो उन्होंने उसका नाम मदनसेन रखा।

चूंकि राजा वीरसेन ने इसे भगवान शिव और पार्वती का आशीर्वाद माना था, इसलिए उन्होंने डोंगरगढ़ में श्री बमलेश्वरी मंदिर का निर्माण किया।अब राजा मदनसेन के कामसेन नाम का एक पुत्र था, जिसके कारण यह क्षेत्र प्रसिद्ध हो गया और

कामाख्या नगरी के नाम से जाना जाने लगा।माँ बम्लेश्वरी को छत्तीसगढ़ी में माँ बमलाई के नाम से जाना जाता है

नवरात्री के समय श्रद्धालु दूर दूर से पैदल यात्रा करके माता के दर्शन के लिए आते है।

रुकने की व्यवस्था :-

देश-दुनिया से आने वाले भक्तों के लिए यहां ठहरने की भी अच्छी व्यवस्था की गई है।

श्री बम्लेश्वरी मंदिर समिति के माध्यम से संचालित धर्मशाला के साथ यहां निजी होटल्स भी उपलब्ध हैं।

डोंगरगढ़ बम्लेश्वरी मंदिर कैसे पहुंचें :-

वायु मार्ग- छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर सबसे नजदीक का हवाई अड्डा है।

रेल मार्ग- हावड़ा-मुंबई मुख्य रेल मार्ग पर डोंगरगढ़ रेलवे जंक्शन है।

सड़क मार्ग- छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर, राजनांदगांव से नियमित बस सेवा और टैक्सियां उपल्बध होती हैं

या अपने निजी वाहन से पहुंचा जा सकता है।

1 thought on “माँ बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़”

Leave a Comment

error: Content is protected !!